recent posts

The big bang theory , brahmand ki utpatti kaise hui

Big bang theory elearnner

ब्रह्माण्ड की प्रकृति एवं उत्पत्ति से सम्बंधित विज्ञान 'कॉस्मोलॉजी' कहलाता है |
पृथ्वी इस ब्रह्माण्ड का एक - नगण्य भाग है, प्रारम्भ में ऐसा माना जाता था की पृथ्वी ब्रह्माण्ड के केंद्र में स्थित है| 1543 ई. में कोपरनिकस ने यह कहा कि सूर्य ब्रह्माण्ड का केंद्र है |परन्तु केपलर ने यह बताया कि सूर्य सौरमंडल का केंद्र है |1805 ई. में हर्सेल ने कहा कि सौरमंडल आकाशगंगा का एक भाग है | 1925 ई. में हबल ने यह पाया कि  ब्रह्माण्ड में लाखों की संख्या में आकाशगंगा पाए जाते हैं |

• उत्पत्ति-
ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति से सम्बंधित अनेक सिद्धांत प्रतिपादित किये गए हैं | इन सिद्धांतों को समझने के लिए खगोलशास्त्रीय परिघटना, जिसे रेड शिफ्ट ( red shift ) एवं डॉप्लर प्रभाव के नाम से जाना जाता है |
डॉप्लर प्रभाव के अनुसार जब स्रोत पर्यवेक्षक की ओर बढ़ता है तो तरंग की आवृत्ति (frequency ) उच्च प्रतीत होती है एवं जब स्रोत पर्यवेक्षक से दूर जाता है तो आवृत्ति निम्न प्रतीत होती है | दृश्य तरंग के स्पेक्ट्रम में लाल रंग की आवृत्ति सबसे कम एवं तरंगदैध्य्र (wave length) सबसे ज्यादा होती है, जबकि बैंगनी रंग की आवृत्ति सबसे ज्यादा और तरंगदैध्य्र सबसे कम होती है |यह देखा गया है की आकाश गंगा से आने वाला प्रकाश स्पेक्ट्रम के लाल किनारे की ओर स्थानांतरित (shift) हो जाता है |इसे ही red shift कहा जाता है |

• महाविस्फोटक सिद्धांत (Big Bang Theory): 
ब्रह्माण्ड की व्याख्या करने वाला यह नवीनतम सिद्धांत है इसे फायरवर्क्स थ्योरी के नाम से भी जाना जाता है | इस सिद्धांत के अनुसार लगभग 15 अरब वर्ष पूर्व कॉस्मिक पदार्थ एक अत्यधिक संपीडन के पिंड रूप में मौजूद थे तथा इस संपीडित पिंड का तापमान एवं दवाव काफ़ी अधिक था | इस संपीडित पिंड में तीव्र विस्फोट हुआ एवं इसके टुकड़े आकाशीय पिंड में परिवर्तित हो गए एवं ये विखंडित  टुकड़े अभी भी हजारों किलोमीटर प्रति सेकण्ड की गति से गतिशील हैं | जैसे की सभी विस्फोटों में होता हैं, सर्वाधिक दूर के टुकड़े सर्वाधिक तीव्र गति से गतिशील हैं |

• आइंस्टीन की सापेक्षता का सिद्धांत (Theory of Relativity) -
आइंस्टीन की यह थ्योरी विज्ञान के चमत्कारिक सिध्दांतों में से एक है, और चीजों को देखने का हमारा नज़रिया पूरी तरह बदल देती है | जब इस थ्योरी की खोज की गई तो लोगों में इसे समझ पाना बहुत मुश्किल था तब वैज्ञानिकों ने भी इसे नकार दिया |समय 1905 में जब एक बार फिर अपनी एक खोज 'प्रकाश वैधुत प्रभाव' की खोज की तब लोगों ने आइंस्टीन के खोज की सराहना की और 'Theory of relativity' को माना जिसके लिए इनको 1921 में भौतिक के क्षेत्र में नोबेल पुरुष्कार मिला था इन्हें भौतिकी के जनक के रूप में जाना जाता है |

• 1929 में एक वैज्ञानिक एडविन हब्बल ने बताया की सभी गैलेक्सी एक दूसरे एक दूसरे सुकड़ रहे हैं, उन्होंने इस बात से भी पर्दा उठाया की दूरस्थ आकाशगंगाओं के मध्य आपसी सम्बन्ध होता है| और वे रेडशिफ्ट के माध्यम से एक दूसरे से संबधित होती हैं|
ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति के सम्बन्ध में दो सिद्धांत बिग बैंग थ्योरी और स्टेडी स्टेट थ्योरी मौजूद थीं | लेकिन 1964 में कॉस्मिक माइक्रोवेव पृष्ठभूमि विकिरण की खोज के साथ ही एक बार फिर बिग बैंग थ्योरी की पुष्टि की गई 1992 में कॉस्मिक बैकग्राउंड एक्सप्लोरर के लॉन्चिंग के बाद यह पता चला कि ब्रह्माण्ड कि उत्पत्ति के प्रथम समय में ही इसकी कुल ऊर्जा का 99.7 ऊर्जा उन्मुक्त हो चुकी थी इससे यह सिद्ध होता है कि ब्रह्माण्ड कि उत्पत्ति एक विस्फोट का परिणाम है जिसमे काफ़ी ज्यादा ऊर्जा और अरबों की संख्या में पिण्ड उत्पन्न होकर अंतरिक्ष में गतिशील हो गए आज उसी ऊर्जा से ब्रमाण्ड की हर एक वस्तु निर्भर है |

Previous
Next Post »

Recent in Recipes