Header Ads Widget

header ads

Indian National Congress | all Session and Work | Modern History gov exam


Congress Sessions ; Part of Modern Histiry exam is most important for various competitive exams; like UPSC, SSC, UPPSC, PCS, BEO, Bankings, Railway, State PSC, Defence NDA/NA/AIRFORCE/AFCAT/DRDO, POLICE etc all other government exams.

If you want to get well prepared with Modern History in GS section. Modern History and understand his importance in his exam. So join and follow us. we will make your preparation even easier.
 in that Gs the current affairs and gk's persentage is 60% and 40%. That is Current Affairs to improve your score. 
Now come to our topic Congress Sessions ;  are the most important topic in Modern History of India every exams. Mostly askable question from the Modern History of India also in Congress Sessions and their Initiative.
Now questions of Congress Sessions topic of Modern History of India you will be able to do 100% accuresy in exams.

UPSC Prelims exam के लिए

All States PSC Mains exam

Mostely Will Helps all other gov exam SSC, Bankings, Defence, Police,DRDO, Railway and CET Exam

All Most Important Congress Sessions for UPSC Upcoming Exam. 


कांग्रेस के महत्वपूर्ण अधिवेशन बिलकुल डीटेल्स में upcoming Upsc, ssc and railway exam

▪️ सर A. O. ह्यूम ने सन 1884 में कांग्रेस की स्थापना की | स्थापना के 1884 के समय इसका नाम  "भारतीय राष्ट्रीय संघ " था |

पर 1885 में इसके आयोजित पहले अधिवेशन में इसका नाम बदलकर "भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस " कर दिया गया |

▪️ यहाँ से दो क्वेश्चन आते हैं | भारतीय राष्ट्रीय संघ की स्थापना 1884 में 
और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना 1885 में हुई |

Most Important congress sessions 

1st अधिवेशन 1885 (बम्बई)

▪️ इस अधिवेशन का अध्यक्ष WC बनर्जी को बनाया गया था |
▪️ कांग्रेस के इस सेशन में 72 प्रतिनिधियों ने भाग लिया |
▪️ दादा भाई नौरोजी के सुझाव पर इसका नाम बदलकर "भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस" कर दिया गया |
▪️ स्थापना के समय लॉर्ड डफरिन भारत का वायसरॉय था |
▪️ यह अधिवेशन बम्बई के "गोकुलदास तेजपाल संस्कृति विश्व विद्यालय" में हुआ |
▪️ उस समय इस अधिवेशन में कुल 9 प्रस्ताव सरकार के सामने रखे गए |
▪️ कांग्रेस के प्रथम ईसाई अध्यक्ष WC बनर्जी ही थे |

2nd अधिवेशन 1886 (कलकत्ता)

▪️ इस अधिवेशन का अध्यक्ष दादाभाई नौरोजी को बनाया गया था |
▪️ इस अधिवेशन में डफरिन ने कांग्रेस के सदस्यों को "गार्डेन पार्टी" दी थी |
▪️ इसी अधिवेशन में सुरेंद्र नाथ बनर्जी से मिलकर "National Conference " का कांग्रेस में विलय कर दिया गया |
▪️ कांग्रेस स्टैंडिंग कमेटी का गठन (कुल मेम्बर 436)
▪️ प्रथम पारसी के अध्यक्ष दादा भाई नौरोजी

3rd अधिवेशन 1887 (मद्रास)

▪️इसके अध्यक्ष बदरुद्दीन तैयबजी (प्रथम मुस्लिम अध्यक्ष ) थे |
▪️इसी अधिवेशन में कांग्रेसी बनो का नारा दिया गया |
▪️विषय निर्धारण समित की नींव रखी |
▪️रनाडे द्वारा सोशल कांफ्रेंस का आयोजन |
▪️Arms Act के खिलाफ प्रस्ताव इसी अधिवेशन में आया |

4th अधिवेशन 1888 (इलाहाबाद)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष जॉर्ज यूल (प्रथम यूरोपियन या अंग्रेज अध्यक्ष)
▪️लाला लाजपत राय पहली बार अधिवेशन में शामिल हुए और हिंदी में भाषण दिया |
▪️"United India Patriotic Association " की स्थापना सर सैयद अहमद खां ने की |
▪️Aligarh Muslim University की स्थापना भी सर सैयद अहमद खां ने की थी |
▪️लॉर्ड डफरिन कांग्रेस के लिए कहा - यह जनता के उस वर्ग का प्रतिनिधित्व करती है जिनकी संख्या सूक्ष्म है |
▪️विपिन चंद्रपॉल ने कांग्रेस को याचना संस्था कहा |
▪️अश्वनी कुमार दत्ता ने कांग्रेस को तीन दिनों का तमाशा कहा |

5th अधिवेशन 1889 (बम्बई)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष विलियम बेडरवर्न (दूसरे अंग्रेज अध्यक्ष ) को बनाया गया |
▪️21 वर्षीय मताधिकार पारित किया गया |
▪️कांग्रेस ने लन्दन में अपनी एक संस्था ब्रिटिश इंडिया कमेटी 1889 का गठन किया |

7वां अधिवेशन 1891 (नागपुर)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष आनंद चार्लु को बनाया गया

9वां अधिवेशन 1893 (लाहौर)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष दादाभाई नौरोजी को बनाया गया |
▪️इस अधिवेशन में सिविल सेवा परीक्षा भारत में ही करवाने की माँग की गयी |
10वां अधिवेशन 1894 मद्रास

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष अल्फ्रेंड वेब को बनाया गया | ▪️कांग्रेस के संबिधान का निर्माण किया गया |

11वां अधिवेशन 1895 पूना

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष सुरेन्द्र नाथ बनर्जी को बनाया गया | ▪️तिलक ने MG रनाडे द्वारा प्रारम्भ सोशल कॉन्फ्रेंस को कांग्रेस मंच से बंद करवा दिया |

12वां अधिवेशन 1896 कलकत्ता

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष रहीम तुल्लाह सयानी को बनाया गया ▪️ पहली बार भारत का राष्ट्रीय गीत  "बन्दे मातरम" गाया गया | ▪️दादा भाई नौरोजी के धन बहिर्गमन के सिद्धांत को स्वीकार किया गया |

17वां अधिवेशन 1901 कलकत्ता

▪️ इस अधिवेशन का अध्यक्ष दीनशाई दुलची वाचा को बनाया गया |
▪️ गाँधी जी पहली बार इस अधिवेशन में शामिल हुए |

20वां अधिवेशन 1904 (बम्बई )

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष सर हेनरी कॉटन को बनाया गया | ▪️ मुहम्मद अली जिन्ना ने पहली बार इस अधिवेशन में भाग लिया |

21वां अधिवेशन 1905 (वाराणसी)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष गोपाल कृष्ण गोखले को बनाया गया
▪️ इसी अधिवेशन में स्वदेशी आंदोलन को समर्थन देने की बात कही गयी जो बंगाल विभाजन के विरोध में चलाया गया |

22वां अधिवेशन 1906(कलकत्ता)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष दादा भाई नौरोजी को बनाया गया | ▪️कांग्रेस के मंच से पहली बार  "स्वराज " शब्द का प्रयोग दादा भाई नौरोजी द्वारा किया गया |

23वां अधिवेशन 1907 (सूरत)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष "रासविहारी बोस" को बनाया गया |
▪️इसी अधिवेशन में कांग्रेस नरम दल और गरम दल में विभाजित हो गयी |

नरम दल के नेता - गोपाल कृष्ण गोखले, महात्मा गाँधी, सरदार पटेल, जवाहर लाल नेहरू, आनंद मोहन बोस, के टी तैलंग, आर सी दत्त, रहीमतुल्लाह एम सयानी, दादा भाई नैरोजी, ऐ ओ ह्यूम, बदरुद्दीन तैयबजी |

गरम दल या कट्टर पंथी नेता - लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक, विपिन चंद्रपॉल, चंद्रशेखर आजाद, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, टी प्रकाशन, चिदंबरम पिल्लई, सी वी राघवा चार्य, अश्वनी कुमार दत्ता |

27वां अधिवेशन 1911 (कलकत्ता)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष विशन नारायण धर को बनाया गया |
▪️इस अधिवेशन में पहली बार रवीन्द्र नाथ टैगोर द्वारा रचित राष्ट्रगान ''जन-गण-मन" गाया गया |
▪️सर्वप्रथम 1912 में तत्ववोधिनी पत्रिका में भारत भाग्य विधाता शीर्षक से प्रकाशित हुआ |

32वां अधिवेशन 1916 (लखनऊ)

▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष अम्बिकाचरण मजूमदार को बनाया गया |
▪️ कांग्रेस के नरम दल और गरम दल में समझौता इसी अधिवेशन में हुआ इसमें महत्वपूर्ण भूमिका बाल गंगाधर तिलक और एनी वेसेंट की रही |
▪️तिलक और जिन्ना के सहयोग से कांग्रेस और मुस्लिम लीग के बीच समझौता हुआ जिसे लखनऊ समझौता या कांग्रेस -लीग पैक्ट के रूप में जाना जाता है |
▪️इस अधिवेशन में मुस्लिम लीग के पृथक निर्वाचन की माँग को स्वीकार कर लिया गया |
▪️"स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और में इसे लेकर रहूँगा " बाल गंगा धर तिलक ने इसी अधिवेशन में कहा |
▪️होमरूल मूवमेंट एनी वेसेंट और बाल गंगा धर तिलक द्वारा शुरू किया गया |

33वां अधिवेशन        1917      कलकत्ता 
▪️इस अधिवेशन में "एनी वेसेंट" कांग्रेस की प्रथम महिला अध्यक्ष बनी |
▪️इसी अधिवेशन में सर्वप्रथम तिरंगे झंडे को कांग्रेस ने अपनाया |

34वां अधिवेशन         1918       बम्बई 
▪️अध्यक्ष - सैयद हसन इमाम
▪️कांग्रेस का दूसरा विभाजन |

1918 विशेष अधिवेशन दिल्ली

▪️अध्यक्ष- मदन मोहन मालवीय

▪️कांग्रेस का पहला विशेष अधिवेशन

▪️इसी अधिवेशन में मदन मोहन मालवीय ने "सत्यमेव जयते" का नारा दिया |

35वां अधिवेशन       1919     अमृतसर 
▪️इस अधिवेशन का अध्यक्ष मोतीलाल नेहरू को बनाया गया |
▪️जलिया बाला बाग हत्या काण्ड की निंदा की गयी और इसी को समर्थन देने के लिए खिलाफत आंदोलन को समर्थन देने का निर्णय लिया गया |

36वां अधिवेशन         1920     नागपुर 
▪️अध्यक्ष - सी विजयराघवाचारी
▪️इस अधिवेशन में कांग्रेस के संबिधान में परिवर्तन किया गया |

1920 विशेष अधिवेशन कलकत्ता 
अध्यक्ष - लाला लाजपत राय
कांग्रेस का दूसरा विशेष अधिवेशन

38वां अधिवेशन       1922  गया (बिहार)  
▪️अध्यक्ष - चितरंजन दास
▪️मोतीलाल नेहरू और सी आर दास द्वारा 1923 में " स्वराज पार्टी " की स्थापना की गयी |

1923 अधिवेशन       दिल्ली 
अध्यक्ष - अब्दुल कलाम आजाद
▪️कांग्रेस का तीसरा विशेष अधिवेशन |
▪️कांग्रेस के सवसे कम उम्र के अध्यक्ष बने |

40वां अधिवेशन 1924 (बेलगाम)

▪️महात्मा गाँधी को अधिवेशन का अध्यक्ष बनाया गया |
▪️महात्मा गाँधी एकमात्र अधिवेशन के अध्यक्ष बने |
▪️इस अधिवेशन में कांग्रेस और मुस्लिम लीग अलग हो गए |
▪️गाँधी - दास पैक्ट को स्वीकृति मिली |

41वां अधिवेशन 1925 (कानपुर)

▪️इस अधिवेशन की अध्यक्ष सरोजनी नायडू (प्रथम भारतीय महिला अध्यक्ष) को बनाया गया |
▪️इस अधिवेशन में "विजयी विश्व तिरंगा प्यारा " पहली बार गाया गया |
▪️हिंदी को राष्ट्र भाषा के रूप प्रयोग |

42वां अधिवेशन 1926 (गुवाहाटी)

अध्यक्ष - श्री निवास आयंगर
▪️कांग्रेस नेताओं व सदस्यों को खादी पहनना अनिवार्य कर दिया |

43वां अधिवेशन 1927 (मद्रास)

अध्यक्ष - एम ऐ अंसारी
▪️पूर्ण स्वाधीनता की माँग की गयी |
▪️साइमन कमीशन (1927) का विरोध करते समय लाठी चार्ज में लाला लाजपत राय की मृत्यु हो गयी थी |

44वां अधिवेशन 1928 (कलकत्ता)

अध्यक्ष - मोतीलाल नेहरू
▪️नेहरू रिपोर्ट को स्वीकार करने की बात की गयी सरकार से |
▪️कांग्रेस का एक विदेश भाग विस्थापित किया गया |

45वां अधिवेशन 1929 (लाहौर)

▪️अध्यक्ष - जवाहर लाल नेहरू
▪️पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव पारित किया गया |
▪️1930 में कोई अधिवेशन नहीं हुआ |
▪️26 जनवरी 1930 को कांग्रेस ने पूर्ण स्वाधीनता दिवस के रूप में मनाया |
▪️कांग्रेस के 1885 से 1929 तक सभी अधिवेशन दिसंबर में आयोजित किये गए |

46वां अधिवेशन 1931 (कराची)

अध्यक्ष - बल्लभ भाई पटेल
▪️इस अधिवेशन में मूल अधिकारों की माँग की गयी, ड्राफ्ट जवाहर लाल नेहरू के द्वारा तैयार किया गया था |
▪️आर्थिक नीत से सम्बंधित एक प्रस्ताव रखा गया |
▪️गाँधी इरविन समझौता |

49वां अधिवेशन 1934 (बम्बई)

अध्यक्ष - डॉ. राजेंद्र प्रसाद
▪️कांग्रेस समाजवादी पार्टी की स्थापना आचार्य नरेंद्र देव और जय प्रकाश नारायण द्वारा की गयी |
▪️अखिल भारतीय खादी ग्रामोद्योग की स्थापना की स्थापना, अध्यक्ष- महात्मा गाँधी
▪️यह अधिवेशन कांग्रेस की स्वर्ण जयंती के रूप में मनाया जाता है |
▪️कांग्रेस की सोशलिष्ट पार्टी का गठन (1934 ) जय प्रकाश नारायण और आचार्य नरेन्द्र देव द्वारा |
▪️अखिल भारतीय चरखा संघ की स्थापना | अध्यक्ष - महात्मा गाँधी

51वां अधिवेशन 1937 (फैजपुर, बंगाल)

अध्यक्ष - जवाहर लाल नेहरू
▪️गांव में आयोजित प्रथम अधिवेशन |

52वां अधिवेशन 1938 (हरिपुरा, गुजरात)
अध्यक्ष - सुभाष चंद्र बोस
स्थान - हरिपुरा (गुजरात)

53वां अधिवेशन 1939 (त्रिपुरी, मध्यप्रदेश )

अध्यक्ष - सुभाष चंद्र बोस
स्थान - त्रिपुरी (मध्य प्रदेश)

54वां अधिवेशन 1940 (रामगढ़)

अध्यक्ष - मौलाना अब्दुल कलाम आजाद
स्थान - रामगढ़

55वां अधिवेशन 1946 (मेरठ)

अध्यक्ष - जे बी कृपलानी
स्थान - मेरठ
▪️आजादी से पहले कांग्रेस अधिवेशन के अध्यक्ष जे बी कृपलानी |

56वां अधिवेशन 1948 जयपुर

अध्यक्ष -पट्टाभि सीतारमैया
स्थान - जयपुर
▪️आजादी के बाद कांग्रेस के अधिवेशन के अध्यक्ष बने पट्टाभि सीतारमैया |





भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के स्थापना 1885 में हुई थी | तब से अब तक के कांग्रेस अधिवेशन SSC exam

Battle of Medieval history Ocean Current
Delhi Sultanate Ruling period National Park in India
Sikh's Gurus Terms, Fact River System
Revolt of 1857 Cultural Dance Forms hindi
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से सम्बंधित जानकारी
UPSC Prelims के लिए

Post a Comment

0 Comments

Other Post you must read it.

Battle of Medieval history
Delhi Sultanate Ruling period
Sikh's Gurus Terms, Fact
Revolt of 1857